ऐंगल प्लेट (Angle Plate) कितने प्रकार के होते है

ITI Question Bank

ऐंगल प्लेट (Angle Plate) कितने प्रकार के होते है

ऐंगल प्लेट (Angle Plate)

रिचय (Introduction) – ऐंगल प्लेट 90° के कोण में और कास्ट ऑयरन से बनी होती है जिसकी प्रत्येक बाहरी दिखाई देने वाली सतहों को समकोण में अच्छी तरह से मशीनिंग करके ग्राइंड कर दिया जाता है। इनका अधिकतर प्रयोग मार्किंग करते समय जॉब को सहारा देने के लिये और उन्हें क्लैम्प करने के लिये किया जाता है। किसी-किसी ऐंगल प्लेट में आयताकार आकार की नालियां (Grooves) बनी होती हैं जिनका प्रयोग बोल्ट की सहायता से जॉब को क्लेम्प करने के लिये किया जाता है।

मेटीरियल (Material) -ऐंगल प्लेटें प्रायः क्लोज्ड ग्रेन कास्ट ऑयरन या स्टील से बनायी जाती हैं

साइज (Size) -ऐंगल प्लेट विभिन्न साइजों में पाई जाती है। साइज को नंबरों में इंगित किया जाता है जैसे साइज नं. 1 में लंबाई 125 मि.मी. चौड़ाई 75 मि.मी. और ऊंचाई 100 मि.मी. होती है। साइज प्राय: 1 से 10 नंबर तक होते हैं जिनमें 1 से 6 नंबर तक ग्रेड 1 और 7 से 10 नंबर तक ग्रेड 2 के लिए होते हैं।

ग्रेड (Grade) -ऐंगल प्लेट प्रायः ग्रेड 1 तथा ग्रेड 2 में पाई जाती है। 1′ ग्रेड वाली ऐंगल प्लेट अपेक्षाकृत अधिक परिशुद्ध होती है जो कि प्रायः टूल रूम में प्रयोग होती है। ‘2’ ग्रेड वाली ऐंगल प्लेट प्रायः मशीन शॉप में प्रयोग होती है। इस के अतिरिक्त प्रिसिजन ऐंगल प्लेंटे भी पाई जाती है जिसका प्रयोग इंस्पेक्शन कार्यों के लिए किया जाता है।

विवरण (Specification) – ऐंगल प्लेट को उसके नंबर, ग्रेड और इंडियन स्टैण्डर्ड (B.I.S)नं. से इंगित करते है जैसे- ऐंगल प्लेट साइज नं. 2, ग्रेड 2-IS:623 ।

ऐंगल प्लेट (Angle Plate) कितने प्रकार के होते है –

प्रायः निम्नलिखित प्रकार की ऐंगल प्लेट प्रयोग में लाई जाती है

1. प्लेन सॉलिड एंगल प्लेट (Plain Solid Angle Plate) – इस प्रकार की ऐंगल प्लेट अपेक्षाकृत छोटे साइज की होती है जो कि प्राय: मार्किंग करते समय जॉब को आश्रय देने के लिए प्रयोग की जाती है।

2. स्लॉटिड ऐंगल प्लेट (Slotted Angle Plate) – इस प्रकार की ऐंगल प्लेटें अपेक्षाकृत बड़े साइज की होती हैं। जिसकी दोनों प्लेन सरफेसों पर स्लॉट बने होते हैं जिनमें क्लेम्पिंग बोल्ट लगा कर जॉब को बांधा जा सकता है।

3. स्विवल ऐंगल प्लेट (Swivel Angle Plate) – इस प्रकार की ऐंगल प्लेट एडजस्टेबल होती है, जिसकी दोनों प्लेन सरफेसों को किसी भी ऐंगल में सेट किया जा सकता है। ऐंगल की सेटिंग के लिए इस पर ग्रेजुएशन भी बनी होती है। किसी भी पोजीशन में सेट करने के लिए इसके साथ एक बोल्ट व नट भी लगा होता है।

4. बॉक्स ऐंगल प्लेट (Box Angle Plate) -इस प्रकार की ऐंगल प्लेटअपेक्षाकृत कम प्रयोग होती है। इस ऐंगल प्लेट का लाभ यह है कि एक बार जॉब को सेट कर देने के बाद जॉब को बॉक्स के साथ ही घुमा कर अगला मार्किंग या मशीनिंग आपरेशन किया जा सकता है।

सावधानियां (Precautions)

1. कार्य करने से पहले और बाद में ऐंगल प्लेट को साफ रखना चाहिए।

2. समय-समय पर इन पर तेल या ग्रीस लगाते रहना चाहिए जिससे इनको जंग लगने से बचाया जा सकता है ।

3. इनको गिरने से बचाना चाहिए।

4. एडजस्टेबल ऐंगल प्लेट को कार्य के अनुसार कोण में समायोजित (Adjust) करके इसके नट और बोल्ट को अच्छी तरह से टाइट कर देना चाहिए।

ITI परिचय और सुरक्षा ( (Introduction and Safety) 📘 in Hindi pdf 2021

ITI Diesel Mechanic Objective Important Question Answer in Hindi 2021

इसे भी पढ़े…..