पेरेलल ब्लॉक्स (Parallel Blocks)

ITI Question Bank

पेरेलल ब्लॉक्स (Parallel Blocks)


परिचय (Introduction)-पेरेलल ब्लॉक्स प्रायः जोड़े (Pairs) में पाए जाते हैं जिनकी लंबाई चौड़ाई एक समान होती है। इनका प्रयोग मार्किंग, मशीनिंग और चैकिंग करते समय वर्कपीस को समानान्तर प्लेन में आश्रय देने के लिए किया जाता है।

विवरण (Specification)-सॉलिड पेरेलल ब्लॉक्स को उनको ग्रेड, साइज और इंडियन स्टैण्डर्ड नंबर के अनुसार निर्दिष्ट किया जाता है। जैसे सॉलिड पेरेलल ब्लॉक A 10 मि.मी. x 20 मि.मी. x150 मि.मी. I.S.4241 |

ग्रेड (Grade)-पेरेलल ब्लॉक्स दो ग्रेडों में पाए जाते हैं ग्रेड -A और ग्रेड -B, ग्रेड -A वाले ब्लॉक्स का प्रयोग टूल रूम में प्रिसीजन कार्यों और ग्रेड -B वाले ब्लॉक्स का प्रयोग मशीन शॉप में साधारण कार्यों के लिए किया जाता है।

प्रकार (Types)-प्रायः निम्नलिखित प्रकार के पेरेलल ब्लॉक्स पाए जाते है।

1. सॉलिड पेरेलल ब्लॉक्स (Solid Parallel Blocks) – ये पेरेलल ब्लॉक्स स्टील के पीसों से आयताकार आकार में बनाए जाते हैं जिन्हें हार्ड व ग्राइंड कर दिया जाता है और कभी-2 इन्हें लैपिंग द्वारा फिनिश भी किया जाता है। इनका अधिकार प्रयोग मशीन शॉप में साधारण कार्यों के लिए किया जाता हैं। देखिये चित्र
चित्र 3.21 पेरेलल ब्लॉक्स (Parallel Blocks)

2. एडजस्टेबल पेरेलल ब्लॉक्स (Adjustable Parallel Blocks) -इन पेरेलल ब्लॉक्स में दो टेपर्ड ब्लॉक्स होते हैं जो कि एक टोंग और ग्रूव असेम्बली में परस्पर स्लाइड करते हैं। इन ब्लाकों को समायोजित किया जा सकता है और निश्चित ऊंचाई तक सेट किया जा सकता है।

कम्बीनेशन सेट (Combination Set)


परिचय (Introduction)-कई कार्य ऐसे होते हैं जिन पर विभिन्न प्रकार के आपरेशन करने पड़ते हैं। इन आपरेशनों के अनुसार उन पर मार्किंग करनी पड़ती है और आपरेशन करते समय विभिन्न औजारों से चैक करना पड़ता है। इसीलिये विभिन्न प्रकार के अलग-अलग औजार मार्किंग और चैकिंग करने के लिये टूल्स स्टोर से लेने व उन्हें रखने में काफी समय खर्च होता है और कठिनाई भी हो सकती है। इसलिये इस कमी को दूर करने के लिए एक ऐसा टूल बनाया गया है जिससे कई प्रकार की मार्किंग और चैकिंग की जा सकती है। इस टूल को कम्बीनेशन सेट ( Combination Set) कहते हैं।

इसकी बनावट में एक रूल, एक स्क्वायर हैड, एक सेंटर हैड और एक प्रोट्रेक्टर हैड होता है। इस सेट का प्रयोग स्टील रूल की तरह, किसी कोण की मार्किंग और चैकिंग के लिये और किसी गोल जॉब का सेंटर निकालने के लिये किया जा सकता है।


साइज (Size)-कम्बीनेशन सेट का साइज उसके रूल या ब्लेड की लंबाई के अनुसार लिया जाता है। जैसे कम्बीनेशन सेट 300 मि. मी.।

पार्ट्स (Parts) – कम्बीनेशन सेट के निम्नलिखित पार्ट्स होते हैं रूल या ब्लेड (Rule or Blade) -यह प्रायः एलॉय स्टील या हाई कार्बन स्टील या हाई कार्बन स्टील से बनाया जाता है जिसको हार्ड व टेम्पर किया जाता है। इसके एक ओर पूरी लंबाई पर आयताकार आकार की नाली (Slot) कटी रहती है जिससे लॉक स्क्रू और पिन की सहायता से दूसरे तीनों हैडों को पकड़ा जाता है। इसके ऊपर स्टील रूल के समान इंचों व मिलीमीटर में निशान बने होते हैं। इसका प्रयोग स्टील रूल की तरह मार्किंग व माप की चैकिंग करने के लिये किया जाता है। प्रायः 12″ या 30 से.मी. लंबाई वाला ब्लेड प्रयोग में लाया जाता है। इसके अतिरिक्त यह 60 से.मी. तक लंबाई में भी पाया जाता है।

स्क्वायर हैड (Square Head) – यह प्राय: कास्ट स्टील से बनाया जाता है। इसमें यदि ब्लेड या रूल को फिट कर दिया जाये तो एक ओर 90° का कोण और दूसरी ओर 45° का कोण बनता है। इस प्रकार इसका प्रयोग 90° और 45° के कोणों की मार्किंग करने के लिये और जॉब को 90° और 45° के कोण में चैक करने के लिये किया जाता है। इसका प्रयोग किसी जॉब की गहराई मापने व चैक करने के लिये भी किया जा सकता है। इसके साथ स्प्रिट लेवल भी लगा रहता है जिससे इसका प्रयोग किसी सरफेस का लेवल (Level) उस चैक करने के लिये भी किया जा सकता है। इसके साथ ही स्क्राइबर भी फिट रहता है जिससे लाइनें खींची जा सकती हैं।

प्रोट्रैक्टर हैड (Protractor Head)– यह कास्ट स्टील का बना होता है जिसमें एक डिस्क ( Disc) होती है। जिस पर 0° से 180° तक निशान बने होते हैं। इसमें ब्लेड या रूल को फिट करके किसी भी कोण में सेट करके जॉब को कोण में मापा व चैक किया जा सकता है। इसमें एक स्प्रिंट लेवल (Sprint Level) जुड़ा रहता है जिससे इसका प्रयोग लेवल ( level) चैक करने के लिये किया जा सकता है।

सेंटर हैड (Centre Head) -यह कास्ट स्टील का बना होता है। जिसकी दो बाजू होती हैं और इनको आपस में 90° के कोण में बनाकर फिनिश कर दिया जाता है। यदि इसमें ब्लेड या रूल फिट कर दिया जाये तो दोनों बाजू 45° के कोण में बराबर बंट जाती है। इसका मुख्य प्रयोग किसी गोल जॉब का सेंटर निकालने के लिये किया जाता है।


सावधानियां (Precautions)

1. इसका प्रयोग (Rough Surface) रफ सरफेस पर नहीं करना चाहिये। 

2. इसको कटिंग टूल्स के साथ मिलाकर नहीं रखना चाहिये। 

3. इसको गिरने से बचाना चाहिये।

4. कार्य में लाने से पहले इसको अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिये और कार्य में लाने के बाद भी अच्छी तरह से साफ करके तेल लगा कर रखना चाहिये।

5. कार्य में लाते समय केवल एक ही हैड प्रयोग में लाना चाहिये और दूसरे हैडों को सावधानीपूर्वक संभाल कर रख देना चाहिये।

इसे भी पढ़े…..

Leave a comment